Welcome to CHILDLINE West Singhbhum, Chaibasa

Introduction ::

राष्ट्रीय स्तर की सेवा :- यह भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण मंत्रालय का एक परियोजना है जो गैर सरकारी संस्थाओ, उनीसेफ़, राज्य सरकारें एवं कोरपोरेट जगत के साझेदारी से संचालित होता है. अब तक पुरे देश में 190 शहरों में चाइल्डलाइन नेटवर्क काम कर रहा है.

24 घंटा आपातकालीन सेवा :- चाइल्डलाइन 24 घंटा चलने वाली सेवा है.

निशुल्क फ़ोन सेवा:- 1098 एक निशुल्क फ़ोन सेवा है जिसको कोई बच्चा/ व्यक्ति फ़ोन कर सकता है.

आपातकालीन स्थिति में मदद :- चाइल्डलाइन में सुचना मिलने पर आपात स्थिति में पड़े बच्चे के पास कम से कम समय में पहुँच कर मुसीबत से छुड़ाना एवं अन्य सहयोगी एजेंसीओं के साथ उसका पुनर्वास करने का काम करता है.

आउटरीच सेवा :- चाइल्डलाइन बच्चो एवं समुदाय में 1098 निशुल्क सेवा फ़ोन की जानकारी प्रदान करने, आपात स्थिति, कमजोर, एवं हाशिये में जीने वाले बच्चो तक पहुँचने का काम करता है.

बच्चे जिनको देखभाल एवं संरक्षण की आवश्यकता है :- चाइल्डलाइन सामान्यता 0 से 18 के बच्चो को सेवा प्रदान करती है. परन्तु अपवाद के रूप में अति आपात स्थिति में 25 वर्ष के बालक बालिकाओं को भी सेवा प्रदान कर सकता है.

CHILDLINE Target Childerns ::

चाइल्डलाइन निन्मलिखित वर्ग के बच्चों के लिए काम करता है-

  • बाल अधिकारों से वंचित बच्चे विशेषकर स्ट्रीट बच्चे.
  • बाल श्रमिक.
  • शारीरिक एवं मानसिक प्रताड़ना के शिकार बच्चे.
  • देह व्यापर में फंसे बच्चे.

Read more

Aims of CHILDLINE ::

ऐसे हर बच्चे तक पहुंचना जिसको देखभाल एवं संरक्षण की आवश्याकता है, जिसकी जानकारी चाइल्डलाइन को 1098 फ़ोन या अन्य स्त्रोत से प्राप्त होता है.

समकालीन तकनीक की मदद से 1098 की पहुँच को सुदूर एवं दुर्गम क्षेत्र तक पहुंचना सुनिश्चित करना.

सहयोगी संस्थाओं के साथ काम करके बच्चो के लिए अनुकूल वातावरण का निर्माण करना.

बच्चो को बाल अधिकारों के अंतर्गत प्रदान किये गए सेवाओं की पहुँच को सुनिश्चित करने के लिए वकालती करना.

Read more

The history of the creation of CHILDLINE ::

चाइल्डलाइन सेवा मुंबई में मुसीबत में पड़े स्ट्रीट बच्चो को सहायता प्रदान करने हेतु टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ़ सोशल साइंसेज के परियोजना को 20 जून 1996 को भारत सरकार के परिवार के बाल कल्याण विभाग द्वारा फील्ड प्रोजेक्ट के रूप में स्वीकृत प्रदान करने के साथ प्रारंभ हुआ था.

Foundation of CHILDLINE India ::

मई 1999 में चाइल्डलाइन इंडिया फाउंडेशन को भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं सशक्तीकरण मंत्रालय के एक परियोजना के रूप में गैर सरकारी संस्थाएं, राज्य सरकारें, एवं प्राइवेट सेक्टर के संयुक्त पार्टनरशिप के रूप में पंजीकृत किया गया था. चाइल्डलाइन इंडिया फाउंडेशन के मंत्रालय द्वारा पुरे देश में एक नोडल (केंद्रीय) एजेंसी के रूप में कार्य करने के लिए नियुक्त किया गया. इसके कार्यो में चाइल्डलाइन सेवा का मोनिटरिंग, प्रशिक्षण मॉड्यूल तैयार करना, रिसर्च एवं डॉक्यूमेंटेशन, बच्चो के संरक्षण एवं एडवोकेसी करना आदि शामिल है. साथ ही फण्ड के आवेदन की जाँच, मंत्रालय के साथ फॉलो उप कार्य एवं चाइल्डलाइन केन्द्रों को फण्ड का आवंटन का कार्य भी करता है.

ASRA institution Selected as Collaborative institution ::

चाइल्डलाइन इंडिया फाउंडेशन के चयन प्रक्रिया द्वारा सोसाइटी फॉर रेफोर्मेशन एंड एडवांसमेंट ऑफ़ अदिवासिस का चयन कोलेबोरेटिव संस्था के रूप में मार्च 2011 को किया गया.

Start of CHILDLINE service ::

चाइल्डलाइन सेवा 1 अक्टूबर 2011 को निशुल्क फ़ोन नंबर 1098 के चालू होने के साथ आसरा कार्यालय में प्रारंभ हुआ.